download

MORAL STORY FOR KIDS ( बच्चो के लिए ज्ञान वर्धक कहानी )

आज के युग में बच्चे कोई अच्छे खेल नहीं खेलना जानते जेसे पहले खेले जाते थे | बस टीवी , विडियो गेम , कार्टून आदि देखने में लगे रहते है |पर कुछ बाते ऐसी हे जो आज के युग के बच्चे भी पसंद करते है | जेसे – कहानी सुनना | पहले ज़माने में दादा , दादी , नाना , नानी कहानी सुनाते थे | लेकिन आज के युग के दादा , दादी , नानी , नाना को भी कहानी याद ही नहीं रहती है |और बच्चो को कुछ शिखा भी नहीं पाते और आज के युग में किशी के पास समय ही नहीं है | सभी अपने जीवन में व्यस्त रहते है | इन सब चीजो को देखते हुए हमने सोचा की आजकल के बच्चो को कंप्यूटर , मोबाइल आदि में रूचि  है | इसलिए हमने उनके लिए कंप्यूटर में ही कहानी लिख डाली और इस कहानी को बच्चो तक पहुचाने के लिए इस कहानी को शेयर कर  दिया | हम चाहते है की ये ज्ञान वर्धक  कहानी प्रत्येक बच्चे तक पहुँच पाए | और वो इस कहानी को पढ़ कर कुछ ज्ञान प्राप्त करे |

एक बार की बात है एक जंगल में एक शेर रहता था |जो की जंगल का राजा था | वो बहुत ही खतरनाक था | वह रोज जंगली जानवरों को मारता  और उन्हें और उनके बच्चो को भी  खा जाता था | और उन्हें बहुत दुःख देता था | एक दिन की बात है | सभी जानवरों ने एक सभा बुलाई और उस सभा में सिर्फ शेर को छोड़कर सभी जानवरों को उपस्थित होने के लिए कहा गया | सभी जानवर सभा स्थल पर पहुँच गये | और सभी ने अपनी – अपनी परेशानी  बताई | जब सबने परेशानी सुनी की सबकी परेशानी एक ही है की शेर जो की जंगल का राजा है | शेर  सभी जानवरों को दुःख तकलीफ दे रहा है  और वे सब जानवर बहुत परेशान है |तब सब मिलकर एक उपाय निकालते  है और सब मिलकर राजा  के पास जाते है और शेर से अपनी परेशानी बताते है |

जब शेर को यह सब बाते पता चलती है तो शेर बहुत क्रोधित हो जाता है | और सभी को मारने  के लिए उतावला हो जाता है तभी एक खरगोस बोलता है – रुकिए राजा क्रोध  मत करे | हमने एक निर्णय लिया है की हम सब बारी – बारी से प्रत्येक  दिन आपके लिए भोजन लाया करेंगे | ये बाते शेर की समझ में आ गयी और वो इस बात के लिए तैयार हो गया |

रोज एक जानवर आता और शेर के लिए भोजन लाता | इसी तरह कुछ दिन बीत गये | एक दिन ऐसे ही एक चालक खरगोस का नंबर आया और वो जंगल में शेर के लिए भोजन की वयवस्था करने लगा | उसे कुछ सूझ नहीं पा रहा था | तभी वो सोच में पड़ा था की उसकी नजर पास ही एक कुवे पर पड़ी और खरगोश ने कुए में देखा की उसमे खरगोश की परछाई दिख रही है | उसके दिमाग में विचार आया | वह तुरंत शेर के पास गया | शेर खरगोस को खाली  हाथ देखकर बहुत गुस्सा हो गया | शेर को बहुत भूख लगी थी | जब शेर गुस्से से दहाडा तो सभी जानवर डर गये | तभी खरगोस शेर से बोला राजा शांत हो जाये  | में आपको  कुछ बताना चाहता हु | की जंगल में दूसरा शेर आया है और वो अपने आप को जंगल का राजा बता रहा है | शेर ये सब सुनकर हेरान हो गया और वो खरगोस से  पूछता है की वह शेर कहा है |

तभी खरगोश शेर को कुए के पास ले जाता है | और शेर को कहता है की शेर कुए के अन्दर है | तब शेर कुए में झाकता है और देखता है की कुए में दूसरा शेर नजर आ रहा है | और वो गुस्से से कुए के अन्दर कूद जाता है और शेर मर जाता है |

खरगोश की समझदारी की सभी जानवर सराहना करते है और सब शेर के चंगुल से आजाद हो जाते है |

दोस्तों हमें इस कहानी से ये शिक्षा मिलती है की हमें किसी भी परिस्थिति में हार नहीं माननी चाहिए | कठिन – से कठिन परिस्थिति का सोच समझकर सामना करना चाहिए |और पीठ दिखाकर भागना नहीं चाहिए |

दोस्तों , मेरी ये कहानी पसंद आई है तो ऐसे न जाये कृपयाहमारे पेज bookbaak.com पर  एक लाइक और शेयर जरुर करे |

Post Author: Pooja Aggarwal