सीता जी रावण की पुत्री थी

सीता जी रावण की पुत्री थी

 

सीता जी रावण की पुत्री थी

रामायण में वैसे तो बहुत से अध्याय है परन्तु प्रमुख अध्याय तभी से शुरू होता है जब रावण ने सीता को चुराया और राम को युध के लिए मजबूर किया और इसके बाद राम-रावण का युध हुआ। ज्यादातर सभी ग्रंथों में यहीं वर्णन मिलता है कि रावण सीता से विवाह तो करना ही चाहता था और जब वह अपनी बहन शूर्पणखा के अपमान का बदला लेने के लिए सीता का अपहरण करके ले आया तब उसने सीता से विवाह करने को कहा। लेकिन इसके अलावा कुछ जगहों पर ऐसा वरण है की आप विश्वास नहीं करेंगे की सीता को रावण की बेटी थी | जबकि रामायण के सबसे प्रामाणिक ग्रंथ वाल्मीकि रामायण में इसका कोई उल्लेख नहीं मिलता है।

आपको ये जानकर आश्चर्य होगा की राम के जीवन पर अभी तक करीब 130 अलग-अलग रामायण लिखी जा चुकी हैं। कई ग्रंथों को विद्वान तो इसे सही मानते है तो कई केवल कल्पना मात्र ही बताते हैं। आपको बता दें कि अदभुत रामायण 14वीं शताब्दी में लिखी बताई जाती है। यह किसी एक का कथानक न होकर दो प्रमुख ऋषियों वाल्मीकि और भारद्वाज ऋषि के बीच का वार्तालाप है।

इस रामायण में सीता को जन्म देने वाली मा मंदोदरी थी , इसका उल्लेख मिलता है। इस रामायण के अनुसार, एक बार दण्डकारण्य मे गृत्स्मद नाम का एक  ब्राह्मण, लक्ष्मी जी को अपनी पुत्री के रूप मे पाने के लिए हर दिन एक कलश में घास के अग्र भाग से मंत्रोच्चारण के साथ दूध की बूदें डालता था। एक दिन जब  ब्राह्मण घर पर नहीं था तो रावन ने ऋषियों को मारकर उनका खून उसी कलश में भर लिया और ऋषियों के रक्त को लंका ले गया। कलश को उसने मंदोदरी को दे दियाऔर कहा की इसमें तीक्ष्ण विष है|

इसके बाद रावण घुमने के लिए सह्याद्रि पर्वत पर चला गया। रावण के वयाहर के कारण दुखी होकर| एक दिन मंदोदरी ने आत्महत्या करने का विचार किया और    जहर समझकर उस घड़े का रक्त पी लिया। इसी कारण अनजाने में मंदोदरी गर्भवती हो गई।अब मंदोदरी को बहुत डॉ ला की मेरे पति तो मेरे पास नहीं है। ऐसे में जब उन्हें इस बात का पता चलेगा। तो वो मेरे बारे में क्या सोचेंगे की मे गलत हु |

इसी कारण मंदोदरी तीर्थ यात्रा का बहाना बनाकर कुरुक्षेत्र आ गई। वहां उनहोने अपने गर्भ को निकालकर भूमि में दफना दिया।और सरस्वती नदी में स्नान करके  लंका वापस लौट गई। धरती में गढ़ा हुआ यही गर्भ सीता के रूप में हल चलाते समय मिथिला के राजा जनक को प्राप्त हुआ। इस अदभुत रामायण में  इसी कथा के आधार पर माना जाता है कि सीता मंदोदरी की पुत्री थी लेकिन रावण को इस बारे में कोई जानकारी नहीं थी।

Post Author: Seema Gupta