n

श्री कृष्ण जन्माष्टमी २०१७

जय श्री कृष्ण दोस्तों !

दोस्तों आप सब ने कृष्ण भगवान की अद्भुत लीलाओं के बारे में तो सुना ही होगा | कृष्ण भगवान एकमात्र ऐसे अवतार है जिनकी लीलाओ का जितना वर्णन किया जाये उतना कम है | हर रंग इन्होने अपने जीवन लीलाओं में दिखाया है | बचपन में इन्होने अपनी बाल लीलाओं में बहुत ही अदभुत चमत्कार किये | अनेक दानव का संहार किया | माखन चोरी , मटकिया तोड़ी , गोपियों के साथ रास लीलाए की | और  बड़े होने पर अपने मामा कंस को हराकर अपनि माता देवकी और पिता को कारागार से छुड्वाया | इस प्रकार कृष्ण ने अपने पुरे जीवनकाल में अनेक कहानियो को जनम दिया | वे गरीबो के संरक्षक बने |

कृष्ण जन्माष्टमी –

श्रावण मास की पूर्णिमा के बाद आठवे दिन कृष्ण जन्माष्टमी मनाई जाती है | जनमअष्टमी के दिन ही भगवान विष्णु जी ने अपना आठवा अवतार श्री कृष्ण के रूप में धरती पर जनम लिया था | | इसी को हम कृष्ण जन्माष्टमी के रूप में बड़े हर्ष उल्लाष के साथ मानते है | इस दिन भाद्र पद मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को रोहिणी नक्षत्र में ठीक रात १२ बजे श्री कृष्ण का जनम मथुरा में हुआ |

इस बार कृष्ण जन्माष्टमी १४ अगस्त २०१७ को मानना सुभ रहेगा | लेकिन कुछ जगहों पर जन्माष्टमी १५ अगस्त को भी मनाई जा रही है |

श्री कृष्ण जन्माष्टमी मनाने  का महत्व –

इस दिन भगवान कृष्ण को जल , घी और दूध से स्नान कराया जाता है | फिर पूजा की जाती है | इसके बाद माखन मिश्री का भोग लगाया जाता है | कृष्ण जन्माष्टमी में नक्षत्र का बहुत ध्यान रक्खा जाता है | इस दिन जो लोग पुरे विधि विधान से व्रत या उपवास रखते है और पूजा करते है | उन लोगो के सभी दुःख दूर होते है और  सुख – समृधि से परिपूर्ण होते है | इस दिन व्रत करने से सन्तान , धन से जुडी सभी मनोकामनाएं पूरी हो जाती है | इस दिन कृष्ण भगवान को झुला झुलाना भी बहुत शुभ माना गया है | भगवान को भक्त दुवारा झुला झुलाने से भी सभी मनोकामनाए पूरी होती है | और भगवान कृष्ण की कृपा हमेशा उन भक्तो पर बनी रहती है | इस दिन जगह – जगह मंदिरों में झाकियां बनाई जाती है |

दोस्तों ! अगर आपको हमारी ये पोस्ट पसंद आई है | तो आप ऐसी ही और भी रोचक कहानिया पढने के लिए WWW.BOOKBAAK.COM क्लिक करे |

Post Author: Pooja Aggarwal