नवरात्र में क्या करें और क्या काम ना करें

नवरात्र में क्या करें और क्या काम ना करें


नवरात्र में क्या करें और क्या काम ना करें

नमस्कार दोस्तों नवरात्र  शुरू हो गए है |इसलिए हमें यह जानना जरुरी है  इन दिनों क्या करे और क्या नहीं करे |  मां के मंदिरों विशेष रूप से जम्मू के कटरा स्थित माता वैष्णों देवी में तो नवरात्र में श्रद्धालुओं का तांता ही लग जाता है। लेकिन जाने अनजाने कुछ ऐसी गलतियां हो

नवरात्र में क्या करें –

व्रत के सभी वयंजन इंग्लिश  एवं हिंदी  में  पड़ने के लिए यहाँ क्लिक करे 

  • ज्यदा से ज्यादा लाल रंग के आसन पुष्प एवं वस्त्र का प्रयोग करे क्योकि लाल रंग माँ को बहुत प्यारा या पसंद है |
  • सुबह और शाम मां के मंदिर में या अपने घर के मंदिर में दीपक जलाये और संभव हो तो वहीं बैठकर मां का पाठ करें दुर्गा सप्तसती और दुर्गा चालीसा पढ़ेया मा की नवरात्र कथा पड़े जो की हमारे bookbaak.com पर उपलब्ध है |
  • हर दिन माँ की आरती का थाल सजा कर आरती करे ।
  • मां को हर दिन पुष्प माला चढाएं।
  • नौ दिन तन और मन से उपवास रखें।
  • अष्टमी-नवमीं पर विधि विधान से कन्या पूजनऔर कन्या भोज करे और उनसे आशीर्वाद जरूर लें।
  • घर पर जो भी कन्या आये उसे खाली हाथन जाने दे |
  • नवरात्र काल में माँ दुर्गा के नाम की अखण्ड ज्योत जलाये अखंड ज्योत जलने से आपकी सभी मनोकामनाए पूरी होती है |
  • ब्रमचर्य व्रत का पालन करें। संभव हो तो जमीन पर ही सोये ।
  • नवरात्र के दिनों में नव कन्याओं को अन्तिम नवरात्र को घर बुलाकर भोजन अवश्य कराए।

व्रत के सभी वयंजन इंग्लिश  एवं हिंदी  में  पड़ने के लिए यहाँ क्लिक करे 

  • नवरात्रों में प्रतिदिन व्यक्ति को माता जी के मंदिर में जाकर, माता जी का ध्यान करना चाहिए और अपने एवं परिवार की खुशहाली की प्रार्थना माता जी से करनी चाहिए।

 

  • शास्त्र बताते हैं कि यदि प्रतिदिन साफ़ जल, नवरात्रों में माता जी को अर्पित किया जाता रहे तो इस कार्य से माता जी जल्दी प्रसन्न हो जाती
  • यदि आप घर पर ही हैं और बाहर नहीं जाना है तो आपको स्वछता की दृष्टी से नंगे पैर रहना चाहिए। साथ ही साफ़ और पवित्र कपड़ों का ही प्रयोग व्यक्ति को करना चाहि
  • आज यह बात विज्ञान भी मानने लगा है कि व्यक्ति यदि उपवास करता है तो इस कार्य से शरीर की सफाई हो जाती है। दूसरी तरफ भक्ति की दृष्टी से भी उपवास बहुत महत्वपूर्ण बताये गये हैं। आज कलयुग में उपवास एक तरह की तपस्या ही है
  • नवरात्रों में व्यक्ति को नौ दिनों तक देवी माता जी का विशेष श्रृंगार करना चाहिए। श्रृंगार में माता जी को चोला, फूलों की माला, हार और नये-नये कपड़ों से माता जी का श्रृंगार किया जाता है।

 

नवरात्रि में कौनसे काम ना करें

  • जहां तक संभव हो नौ दिन उपवास करें। यदि नौ दिन व्रत नही रख सके तो लहसुन-प्याज का सेवन न करें। यह भोजन तामसिक भोजन की श्रेणी में आता है।
  • कैंची का प्रयोग जहां तक हो सकेनहीं करे । दाढी, नाखून व बाल काटना नौ दिन तक बंद रखें।
  • किसी की बुराई,निंदा, चुगली, लोभ,झूठ का त्याग करके हर समय मां का गुणगान करना चाहिए|
  • मां के मंदिर में अन्न वाला भोग प्रसाद अर्पित नही करना चाहिए |

 

Post Author: Seema Gupta