images

कोवे को रोटी खिलाने का क्या महत्व है

सनातन धर्म में जानवरों को बहुत महत्व दिया गया है | प्रत्येक घर में गाय , कुत्ता , कोवे को रोटी खिलाने का विशेष महत्व है | इन सब में कोवे को अतिथि आगमन का सूचक माना गया है |

कोवा काला रंग का 20 इंच लम्बा एक पक्षी है | नर और मादा दोनों देखने में एक ही जेसे लगते है | ये काफी मिलो तक उड़ सकते है | और जल्दी थकते भी नहीं है |

आपको जानकर हैरानी होगी की अगर कोई मेहमान आपके घर आने वाला है | या कोई शुभ – अशुभ समाचार मिलने वाला है | तो ये सब जानकारी का आभास कोवे को पहले ही हो  जाता है | और वो ये सब जानकारी हम तक पहुचाने की कोशोश करता है |

कोवे को पितरो का आश्रय स्थल कहा गया है | श्राद्ध में कोवे को भोजन कराना बहुत सुभ माना जाता है | कहा जाता है की पितृ – पक्ष में हमारे पितृ कोवे के रूप में हमारे घर आते है | और जो कुछ भी हम कोवे को खिलाते है  | कोवे के रूप में हमारे पितृ भोजन ग्रहण करते है | कहा जाता है की कोवे को रोटी खिलाने से पितृ प्रसन्न होते है | और अपने परिवार से प्रसन्न होकर उन पर अपना आशीर्वाद सदा बनाये रखते है | कोवे को रोटी खिलाने से काल सर्प दोष से मुक्ति मिल जाती है | शत्रुओ से छुटकारा मिलता है | शानिदेव प्रसन्न होते है | सभी संकट दूर हो जाते है |

अमावश्या के दिन चावल की खीर बनाये फिर रोटी बनाये | रोटी के छोटे – छोटे टुकड़े तोडकर खीर में डालकर छत पर कोवे के लिए रख दे | ऐसा करने से पितरो का आशीर्वाद हमेशा परिवार पर बना रहता है | और उस घर में सुख – समृद्धि का विस्तार होता है |

दोस्तों ! आप सब को हमारी ये पोस्ट केसी लगी है | अगर पोस्ट अच्छी लगी है तो आप ऐसी ही और जानकारी पाने के लिए WWW.BOOKBAAK.COM पर क्लिक करे |

Post Author: Pooja Aggarwal